Baba Ramdev Diet Plan in Hindi

वज़न घटाने के लिए बाबा रामदेव डायट प्लान – Baba Ramdev Diet Plan in Hindi

अगर आप वज़न कम करना चाहते हैं, तो योग गुरु बाबा रामदेव का डाइट प्लान, उनके योगासन और वज़न कम करने की औषधियां काफी कारगर साबित होती हैं।

ये है Baba Ramdev Diet Plan For Weight Loss in Hindi:

  • हरी सब्ज़ियाँ, अंकुरित अनाज और प्रोटीन युक्त डाइट लें।
  • फैट और मीठी चीज़ों से बचें। जब भी प्यास लगे तो गर्म पानी पिएं। कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम लें और तली हुई या तेल-युक्त चीज़ों का सेवन न करें।
  • रोज़ सुबह लौकी का जूस पिएं। ध्यान रहे की लौकी कड़वी न हो।
  • रोज सुबह या शाम दौड़ लगाएं: अगर आप जवान हैं तो रोज दौड़ लगाए या फिर स्विमिंग करें। अगर आप ऐसा नहीं कर सकते है तो रोज़ १०-१५ मिनट तेज़ी से चलें। इससे शरीर में जमा हुआ फैट बर्न होगा और ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा।
  • सूर्य नमस्कार: रोज़ सुबह जॉगिंग के साथ सूर्य नमस्कार करें। इससे पेट के आस पास की चर्बी तेज़ी से कम होगी।
  • एक्यूप्रेशर: अंगूठे के नीचे हथेली पे २-५ मिनट तक दबाएं। इससे थायरॉइड भी कम होता है।
  • त्रिफला गुग्गुल रोज़ सुबह – शाम १ गोली और मेदोहर वटी रोज़ सुबह- शाम २ गोली खाएं। इससे फैट बर्न करने में शरीर  को मदद  मिलेगी और वज़न कम होगा।
  • अगर शरीर में सूजन रहती है या वाटर रिटेंशन की प्रॉब्लम है तो पुनर्नवादि मंडूर का सेवन करें। इससे सूजन कम होगी और पानी जमा होना भी कम होगा।
  • अश्वगंधा के ३ पत्ते दिन में ३ बार हाथो से मसल कर और चबा चबा कर खाएं।
  • कपालभाति प्राणायाम: अगर आप मोटापे से परेशान हैं तो रोज़ सुबह  शाम ३० मिनट कपालभाति प्राणायाम करें। इससे पेट और शरीर की मांशपेशियां ट्यून होती है और वज़न घटता है।
  • उज्जायी प्राणायाम: अगर आपका थायराइड ज़्यादा है तो ७-१० बार उज्जायी प्राणायाम और उसके साथ में कपालभाति  प्राणायाम करें। ऐसा करने से थायरॉइड कंट्रोल होगा और मोटापा कम होगा।
  • हस्तपादासन: रोज़ ५-१० मिनट हस्तपादासन करें। हस्तपादासन करने के बाद सीधे लेट जाएं और साइकिल की तरह दोनों पैरों को ऊपर नीचे चलाएं । ऐसा करने से शरीर का एक्स्ट्रा फैट बर्न होगा।

कपालभाति प्राणायाम कैसे करें?

  • सर्वप्रथम यह ध्यान रखें की जिस जगह आप प्राणायाम कर रहे हैं वो जगह साफ सुथरी और शांत हो। कोई आसन लें और उस पर पद्मासन में या पालथी मार कर बैठ जाएँ।
  • अपनी आँखें बंद रखें और योग मुद्रा बना लें। आप की रीढ़ और गर्दन बिलकुल सीधी रहनी चाहिए।
  • शरीर को रिलैक्स रहने दें और पेट को ढीला छोड़ दें। हथेली आकाश की तरफ होनी चाहिए।
  • इसके बाद आपको साँस अंदर लेते हुए नाभि को रीढ़ की हड्डी से मिलाने की कोशिश करनी है| इसी प्रकार कम से कम 20 बार तेजी से साँस अंदर-बाहर करें| यही प्रक्रिया तब तक चलने दें, जब तक आप थकें नहीं।
  • जब आप थक जाएँ तो थोड़ी देर रुक कर फिर से यही प्रक्रिया करें। कम से कम दो बार और रोजाना करें।

 

ज़रूर पढ़े: वज़न घटाने के लिए १० योग आसन

 

उज्जायी प्राणायाम कैसे करें?

  • सबसे पहले सुखासन में बैठ जाएँ। मुंह को बंद रखकर नाक से सांस लें।
  • सांस तब तक अन्दर खींचें जब तक वायु आपके फेंफडों में पूरी तरह न भर जाएँ। इसके बाद सांस को कुछ देर तक रोक कर रखें।
  • नाक के दायें छिद्र (सूर्य स्वर) को बंद करके सांस को बाएं छिद्र (चन्द्र स्वर) से धीरे-धीरे बाहर छोड़ें।
  • सांस लेते और छोड़ते समय गले से खर्राटे की आवाज निकलनी चाहिए।
  • इस क्रिया को प्रथम 5 बार से अभ्यास करते हुए 20 बार तक बढ़ाएं।

हस्तपादासन कैसे करें?

  • पहले दोनों पैरों को मिलाकर बिल्कुल सीधे व सावधान खड़े हो जाएँ। उसके बाद दोनों हाथों को कान से सटाते हुए ऊपर की तरफ सीधा करें।
  • हाथों को ऊपर करें और साथ ही श्वास अंदर भरें। फिर हाथों को सीधा रखते हुए आगे की तरफ झुकते चले जाएँ।
  • अपनी हथेलियों को अपने पैरों के साथ या तो जमीन पर टिका दें या फिर अपनी एड़ियों को पकड़ लें।
  • इस प्रक्रिया में आपके घुटने झुकने नहीं चाहिए। एड़ियों को पकड़ते हुए सिर को घुटनों से लगायें। शुरुआत में सिर को घुटनों से 15 सेकंड तक ही लगायें।
  • फिर हाथों को सीधा रखते हुए खड़े हो जाएँ। फिर कुछ सेकंड रुककर दुबारा करें।
शेयर करे

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

7 − 4 =